amazon

shopclues

myntra

Home / Historical / हैरान हो जाएंगे आप भारत के बंटवारे के यह थे कुछ प्रमुख कारण

हैरान हो जाएंगे आप भारत के बंटवारे के यह थे कुछ प्रमुख कारण

जब भी किसी राष्ट्र के टुकड़े होते हैं तो वह केवल भूमि का टुकड़ा नहीं बल्कि उसके साथ ही कई लोगों की भावनाओं के भी टुकड़े हो जाते हैं | इसकी पीड़ा केवल वही लोग जान सकते हैं, जिन्होंने इस दुखद घटना का सामना किया हो, बंटवारे के चलते जिनके घर बार और परिवार रिश्तेदार हमेशा के लिए पीछे छूट गये | लोगों की आखों में स्वतंत्रता के सुनहरे भविष्य का सपना इस प्रकार झलक रहा था कि इसके लिए जनता को विभाजन का ज़हरीला घूँट पीना भी मंज़ूर था | भारत और पाकिस्तान के बंटवारे के कई कारण बने, जिनमें से कुछ हम आज आपको बताते हैं |

भारत के बंटवारे के यह थे कुछ प्रमुख कारण, जानकर हैरान हो जाएंगे आप

१: मोहम्मद अली जिन्नाह एवं नेहरु के सत्ता की ख्वाहिश ने देश के बंटवारे में महत्वपूर्ण भूमिका अदा की | दरअसल इन दोनों की इच्छा थी कि आज़ाद देश का पहला प्रधानमंत्री वे ही बनें लेकिन एक राष्ट्र के रहते ऐसा संभव न था |

 

१: इस योजना ने अंग्रेजों की फूट डालो और राज करो की नीति का हिस्सा थी | अंग्रेजों को यह बात पता थी कि ऐसा करके भारत को जितनी क्षति पहुंचाई जा सकेगी, वैसा किसी अन्य तरीकों से संभव नहीं |

 

३: भारत और पाकिस्तान का विभाजन मुख्य रूप से धर्म के आधार पर हुआ | मुहम्मद अली जिन्नाह ने भरी सभा में मंच पर खड़े होकर कहा कि मुसलामानों ने बहुत सहा लेकिन अब और नहीं, हमें एक ऐसा मुल्क चाहिए जहां हमारा क़ानून और हमारी हुकूमत हो | इसके बाद पकिस्तान की नीव पड़ी |

 

४: इस घटना के पश्चात मुस्लिम बाहुल्य राज्यों का विलय पाकिस्तान में होता गया और जहां हिन्दू अधिक थे वे भारत में ही बने रहे | सरदार पटेल ने अपनी तरफ से पूरी कोशिश की कि अधिक से अधिक राज्य भारत में ही रहे | इन सभी घटनाओं में सबसे अधिक हानि जिसे हुई वे सिख थे क्योंकि पंजाब का कुछ हिस्सा पाकिस्तान में चला गया और बंटवारे के दौरान भयंकर रक्तपात हुआ |

Source: webduniya

आगे भी ऐसी ही ज्ञानवर्धक जानकारी पाने के लिए कृपया हमारे फेसबुक पेज को LIKE  करें

Leave a Reply