amazon

shopclues

myntra

Breaking News
Home / Ajab Gajab / गर्भपात कराने के बाद उस बच्चे का क्या होता है, जानकर रूह कांप जाएगी

गर्भपात कराने के बाद उस बच्चे का क्या होता है, जानकर रूह कांप जाएगी

नमस्कार दोस्तों एक बार फिर से आपका स्वागत है हमारे चैनल में जिसका नाम है ब्यूटी मंत्रा। दोस्तों हमारे देश में बहुत सारे ऐसे लोग हैं जो गर्भ में पल रहे बच्चे को गर्भपात के जरिए गिरा देते हैं। लेकिन दोस्तों क्या आपने कभी सोचा है कि गर्भपात के इस प्रक्रिया के दौरान एक मां और उस बच्चे को कितनी तकलीफ होती है। दोस्तों इसलिए आज के इस आर्टिकल में हम आपको गर्भपात की दर्दनाक प्रक्रिया से अवगत कराने जा रहे हैं।

मां बनना हर औरत की जिंदगी का सबसे बड़ा सपना होता है। गर्भपात को हमारे देश में एक बहुत ही आसान शब्द जानकर बोल दिया जाता है। ख़ासतौर पर उस वक़्त महिला का गर्भपात कराने की बात बोली जाती है, जबकि उसके गर्भ में कन्या भ्रूण हो। कई बार लोगों को बच्चा नहीं चाहिए होता है, तो गर्भपात करा देते हैं। मगर क्या आपको पता है कि आसान सी लगने वाली गर्भपात की ये प्रक्रिया कितनी दर्दनाक और भयानक होती है। यह बात कोई नहीं सोचता है कि उस बच्चे पर क्या बीतती होगी जो इस दुनिया में अभी आया भी नहीं है। इतना ही नहीं बल्कि गर्भपात कराने के बाद मां पर क्या बीतती है यह भी कोई इंसान नहीं सोचता है।

गर्भपात कराने के बाद उस बच्चे का क्या होता है, जानकर रूह कांप जाएगी

Third party image reference

दोस्तों आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि गर्भपात की प्रक्रिया के दौरान एक महिला और अजन्मे बच्चे को कितनी तकलीफ होती है। फेलिसिया कॅश नाम की एक महिला ने पिछले साल फेसबुक पर एक पोस्ट शेयर की थी, जिसमें उन्होंने बताया कि गर्भपात के दौरान बच्‍चों के साथ क्‍या होता है? फेलिसिया ने अपनी पोस्ट में लिखा, ‘जुलाई 2014 में मेरा मिसकैरेज हो गया था, जिसके कारण मेरा 14 हफ़्तों और 6 दिन का प्यारा बेटा मर गया था। उस वक़्त वो आश्चर्यजनक रूप से काफ़ी विकसित हो चुका था, उसके पैरों की उंगलियां और अंगूठा भी बन चुका था। फिलिसिया ने इस पोस्ट के जरिए बताया कि जो लोग एबॉर्शन को एक आसान प्रक्रिया समझते हैं उन्हें मैं बता देना चाहती हूँ की एबॉर्शन एक बहुत ही ज्यादा कष्टदायक प्रक्रिया है जिसमे एक माँ के साथ उसके बच्चे को भी उतनी ही तकलीफ होती है।

Third party image reference

ये प्रक्रिया बेहद दर्दनाक होती है। इसमें इंजेक्शन की मदद से महिला के गर्भ में एक ऐसा लिक्वीड डाला जाता है, जिसके असर से बच्चे की सांसें रुक जाती है। इस लिक्वीड का असर इतना खतरनाक होता है कि बच्चे के फ़ेंफड़े और स्किन पूरी तरह जल जाती है। उसके बाद महिला का प्रसव कराया जाता है, जिसके बाद मरा हुआ बच्चा कोख से बाहर आता है। मगर ज़रा सोचिये अगर इसके बाद भी बच्चा ज़िंदा बच जाए तो उस जले और अविकसित बच्चे का न हीं कोई इलाज किया जाता है और न ही कोई देख भाल, बल्कि उसको मरने के लिए छोड़ दिया जाता है।

Check Also

ऐसे होता है किन्नरों का अंतिम संस्कार, जानना चाहेंगे क्या होता है इनकी डेड बॉडी के साथ?

किन्नरों की दुनिया काफी रहस्यमयी है। उनके बारे में जानने की जिज्ञासा सबको रहती है …

Leave a Reply